Acha Insan Bane-Burayi Door Kare


हरेक मनुष्य के अंदर कोई ना कोई कमी होती ही है , आज इस दुनिया में कोई भी मनुष्य छाती ठोक  कर यह नहीं कह सकता कि मेरे अंदर कोई कमी नहीं है , मैं सम्पूर्ण हूँ।

अपने अंदर कमियों को दूर करने से पहले , हमें यह जानना होगा  कि  हमारे अंदर कौन सी कमियां है ?
जैसे - मैं पढ़ने में कमजोर हूँ।
मुझे बुरे नशों की आदत है।
मैं मोटा ज्यादा हूँ।
मैं दुशरों से अच्छे से बात नहीं कर पाता हूँ।  इत्यादि।

acha insan bane burayi door kare
acha insan bane
.




तो सबसे पहले आप अपने अंदर की कमियों को बुराइयों को जानिए , यदि आप अपने अंदर के कमियों को नहीं जान पाते है तो किसी मित्र सम्बन्धी से पूछिए।

तो अब आप अपने अंदर के कमियों को जान गए है।
एक महसूर कहावत है :- बुरा जो देखन मैं चला , बुरा ना मिलया कोई। 
                      जो मन देखा आपनो , मुझसा बुरा ना कोई।।



तो जब आप अपने अंदर की बुराइयों को देखते है , तब आपको अपनी सही पहचान होती है।  कि  अरे ! मैं तो ऐसा हूँ , मैं तो वैसा हूँ।

ये भी पढ़े :-
*Santust kaise rahe - Dusron ko santust kaise kare

*Mann ko control kare

अपने अंदर के बुराइयों को दूर कैसे करे ?
क्या आपको पता है , कि  लोग आजकल अपनी बुराइयों को ना देख दूसरों की बुराई क्यों करते है ?
इसका जवाब है -लोग आजकल अहंकारी हो गए है। लोगों में घमंड की मात्रा बढ़ गयी है। आप अपने अंदर के अहंकार को जबतक दूर नहीं करेंगे कि मैं डॉक्टर हूँ, मंत्री हूँ ,ऑफिसर  हूँ इत्यादि।  तब तक आप अपने अंदर की बुराइयों को नहीं जान पाएंगे और अपने ही घमंड में रहेंगे।

इसीलिए , यदि आपको अपने अंदर की बुराइयों को दूर करना है , तो आपको अहंकार छोड़ना होगा।  सभी को एक समान समझना होगा। नहीं तो आप कभी भी अपने अंदर की कमियों को ना जान पाएंगे और ना कभी दूर कर पाएंगे।


अहंकार कैसे काम करता है ?Acha Insan Bane
अहंकार मनुष्य को अँधा बना देती है। वह ना तो खुद को देख सकता है और ना ही दूसरों को। और आगे चलते  ही रहता है। वह अपने अहंकार पर चलते -चलते  पहाड़ पर पहुँच जाता है और फिर भी आँख ना खुलने के कारन वह पहाड़ से गिर जाता है और उसकी मृत्यु हो जाती है।

तो आप भी ऐसी गलती ना करे।  इस अहंकार को त्यागकर अपने सभी बुराइयों को दूर कीजिये।  और अपना बचा हुआ जीवन आनंदमय और सुखी बनाइये।

और अंत में \यही कहूंगा :- जैसे अग्नि धुएं से और शीसा मेल से ढक जाता है। जैसे गर्भ थैली से ढका रहता है। वैसे ही अहंकार से अपने अंदर की बुराइयां ढकी रहती है। 

यदि आपका कोई प्रश्न या कोई सुझाव है तो हमें जरूर निचे कमेंट करके बताएं।

ये भी जाने :-
*Apne ander ki himmat kaise badhaye

*Online Survey Job se income kare

*Student Credit Card Yojana in Hindi

*Pet ki gas thik kare , gharelu upay

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »