SBI Mutual Fund Ki Puri Jankari शुरुवात से


नमस्कार दोस्तों आपका AnekRoop में स्वागत है। आज हम बात करेंगे market की सबसे hot topic के बारे में।
सबसे ज्यादा पैसा लगाने वाली financial instrument जो की आज के date में available है।
और उसका नाम है Mutual Fund .

इसमें पैसा भी ज्यादा लग रहा है लेकिन इसके विषय में knowledge कम होने के कारन पैसा कहाँ लगाए ,कैसे लगाए ,mutual fund क्या होते है ? यह काम कैसे करती है ? इसकी हमें पूरी जानकारी idea नहीं है।

तो दोस्तों इन सारी चीजों को आज हमें समझने की जरूरत है उसके लिए आप इस post को जरूर अंत तक पढ़े।

sbi mutual fund
sbi mutual fund
.



Mutual Fund क्या है ?

जब कोई customer direct share market में पैसा लगाता है ,तो वह अपने पैसे के साथ Risk ,Time ,Knowledge को  invest करके पैसा लगाता है।

पर हर किसी के पास उतना time नहीं होता ,जिससे की उसके पास knowledge की कमी होती है ,की कहाँ लगाए ? कब लगाए ? कितना लगाए ? ये हमें नहीं पता होता है।



इन सभी चीजों को दूर करने के लिए बिच में आ जाता है Mutual Fund .

Mutual Fund कम्पनियां share market में पैसा लगाती है क्यूंकि उनके पास knowledge ,time और risk taking capability होती है।


Mutual Fund में पैसा कहाँ से आता है ?

जो customer direct share market में पैसा लगा रहा था ,लेकिन उनके पास इन 3 चीजों की कमी थी तो वह customer हमारे Mutual Fund को पैसा देना सुरु करती है।

Mutual Fund के पास सभी पैसा लगाते है ,जहाँ कोई customer सिर्फ 1 share खरीदता था ,वहीं Mutual Fund की share खरीदने की capacity बढ़ जाती है।

इससे फायदा यह होता है कि जो customer का risk था , जो की 1 ही company में depend था ,वह कम हो जाता है। हमारे पैसे बढ़ने के chances ज्यादा हो जाते है क्यूंकि share market में सारी कम्पनियां एक साथ घाटा नहीं खाती है। यदि एक कंपनी घाटा खाती है तो दूसरी कंपनी पैसा बनाती भी है।

क्यूंकि इसके पास knowledge है और ज्यादा लोग हैं ,जो इस field के बारे में अच्छे से जानते हैं।
तो वह आपका time बचाकर अपना time देकर के risk को कम करते हुए आपको returns देती है। जिसे हम Mutual Fund की returns कहते हैं।

Mutual Fund कैसे काम करती है ?

मुख्य 4 चीजें मिलकर Mutual Fund  बनती है।
जिसमे है -
1.NAV
2.UNITS
3.FUND MANAGER
4.FUND SIZE

1.NAV- Net Asset Value
जब Mutual Fund काफी सारे shares में invest करती है और उनका जो average निकलता है ,उसे हम NAV कहते है। यानि यदि आप कोई share खरीदते है तो आपको NAV के अनुसार खरीदना होगा।
आगे दिए हुए examples से आपको इसके बारे में अच्छे से जानकारी मिल जाएगी।

2.UNITS-
यदि आपके पास 1000 रुपये हैं और आप NAV 10 रुपये के हिसाब से खरीदते है तो आपके पास 100 units आते हैं। यही units कहा जाता है।
और यदि आप Mutual Fund में पैसा लगाते है तो आपका पैसा इस unit से ही calculate होगा।

3.FUND MANAGER -
ये वो लोग होते हैं जो Mutual Fund के अंदर हमारे पैसे को manage करते हैं।

Ex - जब हमने अपना 1000 रूपया 10 रुपये के NAV के अनुसार Mutual Fund को दिया तो उसके बदले में उन्होंने हमें 100 units दिए।

तो वह 100 units को ये fund manager decide करते है कि वो इसे कहाँ लगाए और कौन -कौन सा share ख़रीदे।

4. FUND SIZE -
जिस प्रकार हमने इसमें 1000 रुपये लगाए ,उसी तरह और लोगों ने भी कुछ -कुछ पैसे लगाए। किसी ने 5000 किसी ने 10000 लगाया इत्यादि।

हर किसी को 10 रुपये के हिसाब से units मिले। जब यह सारा पैसा इकठ्ठा होगा ,तो यह 16000 का fund size बन जायेगा।

Mutual Fund हमें कैसे returns देती है ?

तो हम चलते है market में। जिसमे हमारा पैसा लग रहा है ,10 रुपये के NAV से।
तो जब share market ऊपर जाएगी ,या नीचे जाएगी तो हमारे returns में फर्क आएगा।

Ex -  अभी हमारा NAV 10 रूपया है और यदि 2 महीने बाद हमारा NAV 12 रुपये हो जायेगा ,तो 100 units के हिसाब से हमारा पैसा 1200 रुपये हो जायेगा । ये जो इसमें 200 रुपये extra है यही  हमारा returns है।

अब ये returns कितना आता है , ये हम अलग -अलग fund से decide करते है।

Mutual Fund में अलग -अलग तरह का fund होता है जिसमें हम पैसा लगा सकते हैं।
Ex - Equity based ,Debt based etc.

ये depend करता है आपके ऊपर कि आप कितना risk लेना चाहते हैं। कितना safe returns चाहते हैं।

तो दोस्तों ये थी basic जानकारी कि Mutual Fund क्या है और कैसे काम करती है।

अब हम इस post के main topic पर आते है ,वो है-


SBI Mutual Fund Ki Jankari 

SBI में आप मुख्य 2 तरीकों से पैसा जमा कर सकते है।

1. Lumson :- यानि 1 time investment . इसमें आपको एक ही बार पैसा invest करना होता है। चाहे 1 साल के लिए या फिर 2 साल के लिए, ये  आपके ऊपर निर्भर है।

2. SAP :- इसमें आपको महीने में पैसा देना होता है। ये पैसा आपके account से हरेक महीना काट लिया जायेगा।

SBI में मुख्य 5  प्रकार के  Fund है। 

1. Equity  Fund -इसमें आपको risk ज्यादा होता है। अभी SBI में कुल 27 schemes equity fund के है।
जिसमे SBI Bluechip fund और SBI Magnum equity fund अच्छे returns दे रही है।

2. Debt Fund :- इसमें आपको risk नहीं है। इसमें आपका पैसा safe रहता है लेकिन returns थोड़े कम मिलते है। ये returns 8 से 12 % के बिच में हो सकता है।
इसमें जो अभी अच्छे returns दे रही है वो है -
SBI short term debt fund , SBI ultra short term fund ,SBI regular saving fund .

3. Hybrid Fund - ये long term के लिए है। इसमें risk medium होता है। और returns भी अच्छे आते है।

4. ETF Fund - यह gold fund है, और international fund है। यह gold के अनुसार depend करता है। यदि gold का market अच्छा होगा तो आपका  returns अच्छा होगा और कम होगा तो आपको कम returns मिलेगा।

5. FMP Fund - यह एक locking period fund है। जिसमे आपका पैसा निर्धारित समय तक lock कर दिया जायेगा ,फिर आप उस पैसे को बीच में निकालना चाहे तो नहीं निकाल पाएंगे।
इसमें आपको high risk उठाना होगा।

यदि आप SBI Mutual Fund में निवेश करना चाहते है तो bank branch से या online www.sbimf.com में जाकर भी कर सकते है। इस site में आपको sbi mutual fund के सारे details मिल जायेंगे।

और यदि आप दूसरे Mutual Fund से निवेश करना चाहते है तो आप www.moneycontrol.com में जाये और इस वेबसाइट से आप देख पाएंगे कि कौन सा company ज्यादा returns दे रही है उसमे कितना risk है और उससे सम्बंधित सभी जानकारी आपको मिल जाएगी।


तो दोस्तों ये थी जानकारी Mutual Fund और SBI Mutual Fund के बारे में। मुझे उम्मीद है आपको ये post जरूर पसंद आई होगी। यदि आपका कोई सवाल या कोई सुझाव है तो हमें निचे comment करके जरूर बताये।





और यदि आपके किसी मित्र -सम्बन्धी को ये जानकारी चाहिए तो इसे आप उनतक share करे।
आप इसे facebook ,watsapp ,twitter द्वारा भी जरूर share करें।
धन्यवाद।

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »

1 comments:

comments
21 July 2018 at 00:32 delete

By taking signals in the direction of a strong trend you would REDUCE UNNECESSARY LOSSES and increase the odds of winning. You need to know "how well" the market is trending to avoid very short-term trends.

STOP hunting the market for every potential trade. Pick only the best trending pairs and time frames and DO NOT take any trading signals in the choppy market (unless you know exactly what you are doing).

Successful traders keep it simple and this is the way how the pros made fortunes in the markets - by trading less and making more.

To increase the profitability of any system or robot you are currently using, check out this easy and powerful ultimate solution:

http://www.forextrendy.com?vhbshygdf398432

Reply
avatar