Hindi में पत्र Letter कैसे लिखे


नमस्कार दोस्तों आपका AnekRoop में स्वागत है।  आज हम सीखेंगे कि Hindi में पत्र  कैसे लिखे। हिंदी  में पत्र  लिखने का क्या तरीका है। हिंदी  में कितने तरीकों से पत्र  लिखा जाता है। हिंदी  में पत्र  लिखने के क्या नियम है ,और भी कई महत्वपूर्ण जानकारी हिंदी  में पत्र  लिखने के लिए।

हिंदी  में पत्र  कैसे लिखे। 

यदि आप हिंदी  में पत्र  लिखना चाहते है तो आप इस post में जरूर अंत तक पढ़े , हम इस post में पत्र  लिखने के तरीकों के साथ -साथ कुछ उदाहरण भी देंगे। जिससे की आपको समझने में अधिक मदद मिल सके।

मुख्य 2 तरह के पत्र  होते है।

1. सामाजिक पत्र  ( Personal Letter ) - सम्बन्धियों के पत्र , बधाई पत्र , शोख पत्र , इत्यादि।
2.   अनौपचारिक पत्र ( Unofficial )-  शाखा प्रबंधक को पत्र , प्रधानाचार्य को पत्र। इत्यादि।

 पत्र लेखन (Letter Writing) के नियम।


hindi me patra likhe
hindi me patra likhe
.


1. पत्र   में दाहिनी ओर ऊपर , पत्र   लिखने वाले का पता और तारीख ( address of the writer and date ) लिखे जाते है।

जैसे -
धनबाद ,बैंक मोर
24 मार्च  2018
2. अभिवादन ( Greeting ) को , पता के थोड़ा नीचे पत्र की बाई ओर लिखते है। उसके प्रति सम्बन्ध के अनुसार ही समुचित अभिवादन या सम्बोधन के शब्द लिखने चाहिए। यह पत्र लिखने और पत्र प्राप्त करने वाले के सम्बन्ध पर निर्भर होता है। English में प्रायः छोटे -बड़े सबके लिए ' My dear ' का प्रयोग होता है , लेकिन हिंदी में ऐसा नहीं है।



यह अपने -अपने देश के शिष्टाचार और संस्कृति के अनुसार चलता है। पिता को पत्र लिखते समय हम पूज्य पिताजी और शिक्षक को आदरणीय जैसे शब्दों से व्यवहार करते हैं।

इसकी पूरी जानकारी आपको नीचे मिल जाएगी।

3. पत्र का मुख्य भाग ( body of the letter ) को greeting के थोड़ा नीचे कुछ दाहिने हटकर शुरू करते हैं। हम जो कुछ कहना चाहते हैं - साफ़ -साफ़ और सीधी भाषा में कहते हैं। पत्र में काफी विनम्र होना चाहिए तथा आवश्यकतानुसार शब्दों  का प्रयोग करना चाहिए। एक पत्र में सौजन्य , सहृदयता  और शिष्टाचार का होना आवश्यक है। तभी पत्रों का प्रभाव ह्रदय पर पड़ता है।


4. पत्र का अंत ( end of the letter ) : इसे पत्र के अंत में दाहिनी ओर लिखा जाता है। इसके साथ हमने सम्बन्ध और सम्बोधन भी जोड़े हैं , जिससे की आपको अधिक मदद मिलेगी।

सम्बन्ध                      सम्बोधन (सुरुवात में )          अभिवादन (सुरुवात में )            अभिनिवेदन (अंत में )


  1. पिता - पुत्र को              प्रिय अनिल                            शुभाशीर्वाद                             तुम्हारा शुभाकांक्षी 
  2. पुत्र  - पिता को             पूज्य पिताजी                           सादर प्रणाम                          आपका स्नेहकांक्षी 
  3. माता - पुत्र को         प्रिय पुत्र                                   शुभाशीष                               तुम्हारी शुभाकांक्षिणी 
  4. पुत्र - माता को             पूजनीया माताजी                   सादर प्रणाम                             आपका स्नेहकांक्षी 
  5. मित्र - मित्र को             प्रिय मित्र                                नमस्ते                                       तुम्हारा 
  6. गुरु - शिष्य को         प्रिय कुमार , चि ० कुमार           शुभाशीर्वाद                              तुम्हारा शुभचिंतक 
  7. शिष्य - गुरु को              आदरणीय गुरुदेव                   सादर प्रणाम                            आपका शिष्य 
  8. दो अपरिचित व्यक्ति          प्रिय महोदय                         सप्रेम नमस्कार                           भवदीय 
  9. अग्रज(बड़ा भाई )-अनुज - प्रिय अनिल                     शुभाशीर्वाद                             तुम्हारा शुभाकांक्षी   
  10. अनुज(छोटा भाई )-अग्रज- पूज्य भैया ,भ्राता जी          प्रणाम                                    आपका स्नेहकांक्षी 
  11. स्त्री -पुरुष को(अनजान )        प्रिय महाशय                         "                                           भवदीया     
  12. पुरुष -स्त्री को(अनजान )        प्रिय महाशया                        "                                           भवदीय 
  13. पुरुष - स्त्री को (पहचान )       कुमारी कमलाजी                   "                                           भवदीय
  14. स्त्री - पुरुष को (पहचान )       भाई कमलजी                       "                                             भवदीया 
  15. पति - पत्नी को                    प्रिये , प्राणाधिके                    शुभाशीर्वाद                           तुम्हारा सत्यैष ी 
  16. पत्नी - पति को              मेरे सर्वस्व ,प्राणाधान             सादर प्रणाम                         आपकी स्नेहकांक्षिणी 
  17. छात्र - प्रधानाध्यापक को      मान्य महोदय                     प्रणाम                          आपका आज्ञाकारी क्षात्र 

आप इस list का photo भी देख सकते है , या इसे save भी कर सकते है।



hindi patra letter ke list


5. लिफाफा /postcard  में आप किसी को पत्र  भेज रहे है , तो पाने  पानेवाले का पता (address ) लिखा जाता है।
जैसे - ग्राम -मायापुर
        पोस्ट - राजगढ़
       जिला - बोकारो

यह optional है।  यानि जब आप real में किसी को पत्र  भेज रहे है , तब यह दिया जाता है , ताकि लिफाफा गलती से फट भी गया तो पत्र  में दिए address से पहुँचाया जा सके।

लेकिन school /college में इसका प्रयोग नहीं होता है। तो यदि आप school /college में है , तो आप इसका इस्तेमाल ना करे।

तो दोस्तों यह थे , पत्र  लिखने के नियम। अब हम आपको एक उदाहरण example  बताना चाहते है , जिससे की आपको समझने में अधिक मदद मिल सके।


उदाहरण Example - हिंदी में पत्र (माताजी को पत्र) .

Q. माताजी को पत्र।
उत्तर -
                                                                                                                  धनबाद ,बैंक मोर।
                                                                                                                   24 मार्च , 2018
पूजनीया माताजी ,
 सादर प्रणाम !

                          आपका पत्र मिला। पढ़कर प्रसन्नता हुई। यह जानकारी बड़ी खुशी हुई कि मीना की शादी तय हो गयी है और अगले साल मार्च में उसका विवाह होने वाला है। आशा है , तब तक मेरी परीक्षा समाप्त हो जाएगी।
इन दिनों मेरी स्कूली परीक्षा  चल रही है। हर दिन परीक्षा की तैयारी कर परीक्षा में बैठता हूँ। ईश्वर की कृपा और आप लोगों के आशीर्वाद से सारे प्रश्नपत्र संतोषप्रद हैं। आशा करता हूँ कि शेष प्रश्नप्रद भी संतोषप्रद रहेंगे। आप चिंता ना करें। मेरा स्वास्थय ठीक है।

पिताजी चंडीगढ़ से कब लौटेंगे ? लौटने पर आप उन्हें मेरा प्रणाम कहें। शेष , कुशल है। अपना समाचार दें। मीना को मेरा आशीर्वाद।
                                                                                                                  आपका स्नेहाकांक्षी ,
                                                                                                                      सुमित

पता :

आप इस letter का photo भी प्राप्त कर सकते हैं।


hindi me patra example udharan



तो दोस्तों यह थी जानकारी कि हम हिंदी  में Letter पत्र कैसे लिखते है। और इसके क्या नियम होते है। मैं उम्मीद करता हूँ कि आपको यह जानकारी जरूर मदद करेगी।
यदि आपका कोई सवाल या कोई सुझाव है , तो हमें comment करके बताये। और इस post को अपने दोस्तों तक fb ,watsap में share करे। ताकि और लोगों को मदद मिल सके।

धन्यवाद। 

English में Letter कैसे लिखे


नमस्कार दोस्तों आपका AnekRoop में स्वागत है।  आज हम सीखेंगे कि English में Letter कैसे लिखे। English में Letter लिखने का क्या तरीका है। English में कितने तरीकों से letter लिखा जाता है। English में litter लिखने के क्या नियम है ,और भी कई महत्वपूर्ण जानकारी English में letter लिखने के लिए।

English में Letter कैसे लिखे। 

यदि आप English में Letter लिखना चाहते है तो आप इस post में जरूर अंत तक पढ़े , हम इस post में letter लिखने के तरीकों के साथ -साथ कुछ उदाहरण भी देंगे। जिससे की आपको समझने में अधिक मदद मिल सके।

मुख्य 2 तरह के letter होते है।


1. Formal Letter ( Personal Letter ) - To My Father , Brother etc .
2. Informal Letter ( Unofficial ) अनौपचारिक पत्र - To Bank Manager , Principal etc .

Letter Writing ( पत्र लेखन ) के नियम।            
english me letter kaise likhe
english me letter kaise likhe

.


1. Letter  में दाहिनी ओर ऊपर , Letter  लिखने वाले का पता और तारीख ( address of the writer and date ) लिखे जाते है।

जैसे -
DAV School ,
Dhanbad ,
3rd March 2018

2. अभिवादन ( Greeting ) को , पता के थोड़ा नीचे पत्र की बाई ओर लिखते है। इसे कई ढंग से लिख सकते हैं।

My Dear Father या Dear Father
My Dear Brother या  Dear Brother
Dear Sir   या  Sir

इसके बाद Comma ( , ) दिया जाता है।

3. पत्र का मुख्य भाग ( body of the letter ) को greeting के थोड़ा नीचे कुछ दाहिने हटकर शुरू करते हैं। हम जो कुछ कहना चाहते हैं - साफ़ -साफ़ और सीधी भाषा में कहते हैं। पत्र में काफी विनम्र होना चाहिए तथा आवश्यकतानुसार Please या Kindly का प्रयोग करना चाहिए।



4. पत्र का अंत ( end of the letter ) : इसे पत्र के अंत में दाहिनी ओर लिखा जाता है।

i ) माता पिता के लिए                     :   Your Loving Son , Your affectionate son
                                                                              Sumit
ii ) परिवार में अपने से बड़ों के लिए :  Yours  affectionately ,
                                                                 Hari
iii ) दोस्त के लिए                           :   Yours sincerely ,
                                                                 Ajay
iv ) शिक्षक आदि के लिए                :   Yours faithfully ,
                                                                  Sumit

5. लिफाफा /postcard  में आप किसी को letter भेज रहे है , तो letter पानेवाले का पता (address ) लिखा जाता है।
जैसे - Sri Hari Om Prasad
          At - Belbar
          PO - Belbar
     Dist    - Vaishali

यह optional है।  यानि जब आप real में किसी को letter भेज रहे है , तब यह दिया जाता है , ताकि लिफाफा गलती से फट भी गया तो letter में दिए address से पहुँचाया जा सके।

लेकिन school /college में इसका प्रयोग नहीं होता है। तो यदि आप school /college में है , तो आप इसका इस्तेमाल ना करे।

तो दोस्तों यह थे , letter लिखने के नियम। अब हम आपको एक example बताना चाहते है , जिससे की आपको समझने में अधिक मदद मिल सके।


Example - Letter To Friend.

Q . Your friend has passed the examination . Write a letter of congratulations to him on his success.

Ans :-

                                                                                                                        Hazaribagh,
                                                                                                                      5th July 2018

Dear Ajay,
                   We have just received your letter. We are very happy to know that you have passed your examination. We are all very pleased and proud. We send you our heartiest congratulations.

I have told my father and mother about it. They have asked me to congratulate you for them.
Please write to me soon.
                                                                                                                        Yours sincerely,
                                                                                                                             Sumit
                                             
Address :

आप इस letter का photo भी प्राप्त कर सकते हैं।

letter writing example.




तो दोस्तों यह थी जानकारी कि हम English में Letter कैसे लिखते है। और इसके क्या नियम होते है। मैं उम्मीद करता हूँ कि आपको यह जानकारी जरूर मदद करेगी।
यदि आपका कोई सवाल या कोई सुझाव है , तो हमें comment करके बताये। और इस post को अपने दोस्तों तक fb ,watsap में share करे। ताकि और लोगों को मदद मिल सके।
धन्यवाद। 

English में Essay कैसे लिखे


नमस्कार दोस्तों आपका AnekRoop में स्वागत है। आज हम सीखेंगे कि English में Essay कैसे लिखते है। Essay लिखने का क्या तरीका होता है। और Essay के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी जानेंगे।
यदि आप English में Essay लिखना चाहते है ,  किसी topic पर भी Essay हो , तो आप लिख पाएंगे। आपको सिर्फ कुछ ही चीजों का ध्यान रखना है। वह क्या है उसके लिए इस post को जरूर अंत तक पढ़े।

English में Essay कैसे लिखे। 

तो दोस्तों यदि आप English में Essay लिखना चाहते है , तो आपको मुख्य 3 बातों को ध्यान रखना होगा।

english me essay kaise likhe
english me essay kaise likhe
.
1. Essay किस प्रकार का है। 

मुख्य 4 प्रकार के Essay होते हैं।

i ) Descriptive - वर्णनात्वक -  आप Essay एकदम स्पष्ठ लिखे। इसमें आप जिस भी विषय पर Essay लिख रहे है , उसका विवरण देना है। यानि आपको describe करना है , अपना पसंद -नापसंद बताना है।
जैसे - My School Campus , Our Dream House .
ii ) Reflective - विचारात्मक - इस तरह के Essay में आपको अपना विचार देना होता है। हरेक का अपना -अपना विचार होता है , लेकिन आप कुछ ऐसा विचार दे , जिससे की लोग परेशानी से बाहर निकले और उसे लाभ हो। आसान भाषा में आपको solution देना है , अपना experience share करना है।
जैसे - Regular study is the key to success , Team Work is important for a Company .



iii ) Narrative - कथनात्मक - अब इस तरह के Essay में आपको कथा लिखना है , यानि कहानी लिखना है।
आपसे किसी के ऊपर भी कहानी पूछा जा सकता है।  आपको उसके बारे में कहानी कहना है और अपना विचार रखना है।  जैसे - कबीर दास , तुलसी दास के ऊपर Essay .

iv ) Argumentative - विवादप्रिय - अब इस तरह के Essay में आपको विवाद करना है  , यानि तर्क करना है। कि कोई कुछ कह रहा है , आप कुछ कह रहे है।  आपको reasons देने है , कि मैं जो कह रहा हूँ वही ठीक है और इसी से change आएगा।
जैसे - समाज की भलाई कैसे हो , विश्व में शांति कैसे आये। इत्यादि।

Note :- तो यह है मुख्य 4 तरह की Essay . यदि इन सब चीजों का आप ध्यान नहीं रखते है , तो आप बस एक चीज के ऊपर ध्यान रखे और वह है जानकारी। किसी भी topic के ऊपर आपको कितनी जानकारी है , यदि आपके पास जानकारी है , तो फिर कोई भी Essay रहे , किसी भी तरह का Essay रहे , आप लिख पाएंगे।

2 . Hints on Essay Writing 

Essay लिखते समय आप इन बातों का ध्यान जरूर रखे।

Essay में समानता ( unity ) और संलग्नता (coherence ) होना चाहिए।  Unity के लिए आप अपने विचारों को एक साथ स्पष्ठ ढंग से बताये और coherence के लिए कुछ ऐसे शब्दों का प्रयोग करे जिनसे paragraph को जोड़ा जा सके। इसके लिए आप linking words और phrases का सही प्रयोग कर सकते है।

Linking Words :- and , or, but, still, however, also, therefore, yet, nevertheless, first, next, last, firstly, then, secondly....lastly, finally, before, after, now, then , soon, later, however, moreover, accordingly , etc.

Phrases :- In brief, as a request, on the other hand, on the contrary, in addition, in conclusion, to sum up, etc.

3. हरेक Essay के तीन भाग होते है। 

यह सबसे महत्वपूर्ण है।  आप कुछ याद रखे या ना रखे , लेकिन यह जरूर याद रखे। इससे आप कोई भी Essay को आसानी से लिख पाएंगे।

i ) आरम्भ ( Beginning ) - इसे introduction भी कहा जाता है।  Essay का यह भाग अधिक बड़ा नहीं होना चाहिए। इस भाग में आपको दिए गए topic का definition , उसके सम्बन्ध में जानकारी - जैसे topic क्या है ? उससे क्या होता है , वह कब बना था , उसके बारे में short details आपको देना होता है।

ii ) मध्य भाग ( Body ) - इस भाग में आपको तर्क -वितर्क arguments , उसके बारे में व्याख्या देना है , कुछ उदाहरण देना है। पूरी illustrations देनी है।

अब एक नया भाग जुड़ गया है और वह है।

iii  ) फायदे ( Benefits )और नुकसान (harm ) - अंत में आपको Essay के topic के ऊपर लाभ - हानि बतानी है।  इसके क्या -क्या लाभ है वह बताना है , क्या -क्या नुकसान है वह भी बताना है।  इससे कितने लोगों को फायदा हुआ है , इत्यादि चीजों को बताना है।

iv  ) अंतिन भाग ( Conclusion ) :- इसमें आपको पुरे Essay का लेखा -जोखा , साफ़ -साफ़ शब्दों में देना होता है। या कहे Essay का पूरा सारांश (summary ) देना होता है। इस भाग में आपको सच्चाई बतानी होती है , इसमें आपके महत्वपूर्ण बातों से लोगों को चुभान भी हो सकती है।


तो यह था Essay के लिए सबसे महत्वपूर्ण पार्ट। सबसे पहले introduction देना है , फिर कुछ examples , व्याख्या करनी है।  फिर conclusion में आना है , पूरी summary को बताना है।  और अंत में उसके फायदे और नुकसान को बताना है। तो यह बातें आप जरूर याद रखे।

Example : English Essay 


Note :- Essay लिखते समय इन सभी भागों को अलग - अलग paragraph में लिखना है। यानि आपको एक Essay कम से कम 4 paragraph में लिखना है। ये बात भी आप ध्यान में रखे , इसी से आपको नंबर मिलेंगे। और इसी से आपके Essay में सुंदरता आएगी।


तो दोस्तों यह थी जानकारी कि आप English में Essay कैसे लिखेंगे , उसके क्या -क्या तरीके है , और किन -किन चीजों को आपको ध्यान में रखना है। मुझे उम्मीद है की आपको ये जानकारी जरूर मदद करेगी।

यदि आपका कोई सवाल या कोई सुझाव है , तो हमें comment करके जरूर बताये। और इस post को जरूर अपने दोस्तों तक share करे। ताकि और लोगों को भी मदद मिल सके।
धन्यवाद। 

Essay-Why Press Media News Channels Going Downward


Welcome to AnekRoop . Today we are going to discuss about Press Media . Why press media going downward in India.[
The topic contains :- Power of the Media, Need for its freedom , Obstacles to its freedom, Editors be free, Economic freedom of people, Conclusion.

media newschannel in india
media newschannel in india
.

Why Press Media News Channel Going Downward In India

By the word Media Press we mean newspapers and news channels. The media plays an important role in a democratic society. The power of the Media is great. Napoleon used to say, " Your hostile newspapers are more to be feared than a thousand bayonets". The Media forms opinion. It creates movements and control policies. Even the most powerful government takes note of public opinion as reflected in a free Media Press.
A free Media , Press stands for a free people . A government may become irresponsible. But an independent Press, Media is a powerful check on its policies. Newspapers , News Channels are a source of publicity. They bring to the notice of the people acts of injustice done by the government. The newspapers criticise anti-people deeds of the administration. Thus they keep a constant watch on the rules of the nation.




These days it is difficult for the Press , Media to be free. The Media has to face lots of problems for maintaining its freedom. Newspapers today are under the control of some big businessmen. So they have to voice their views and serve their interests. Sometimes political parties run newspapers , news channels. Such news channels have to say what the parties think.

Sometimes the newspapers, news channels are under the control of the government. The freedom of the press media in each case is affected. In America the big newspapers are in the hands of the powerful financial syndicates. In England they are in the hands of capatalists. In Russia and China they are run by the governments.

The freedom of the Press Media depends upon the free functioning of the government. A government can function freely in a true democracy. At the same time the editors should be independent-minded. They should express their views freely and fearlessly to serve the interests of common people.

The Media Press can be free if people are free economically. It is said that there is no freedom of the Press in China , Syria and India. The reason is that the common people in these countries are not free economically. Governments are ruled by the power of money. The Press Media is controlled by big business houses. If people are free from want and from the fear of unemployment, they can be fearless critics of the government.

In fact, the government should try to keep the news channels , newspapers free. But the Media should not misuse its freedom. It must publish the news which is true. It should express public opinion. Only then a free Press , Media can serve the people best.



So, this is the detail about Indian News Channel and Newspaper. Hope it will help you. If you have any problem or want to say something then comment below.
Thanks To: KP Thakur...
And Share this post to fb, watsap, So, other people know about it.

A Day During The Election In India


Welcome to AnekRoop . Today I am going to share my life event . It is about election. A election day in India.
The topic contains :- Election in India, Election Preparations, A day before election, Election day, Some evils.
election in india
election in india
.
A Day During The Election In India

India is the biggest democratic country in the world. In a democratic country, elections are of great importance. The government of a democratic country is formed of the people elected by the people . In India, general elections take place after every 5 years. Citizens above 18 years of age have rights to vote.


As a non party man, I wanted that all elections should be held in a fair and fearless atmosphere. I do not remember many things of the previous elections. But I can recall almost everything of the last general elections in our country. In my constituency there were 8 candidates in the field. The congress candidate was an ex-minister .The Communist Party and Aam Aadmi Party had set up a strong candidate. The fourth candidate belonged to the BJP and fifth to the Janta Dal.



Besides them, there were a few rebels of different parties seeking elections as independent candidates. The supporters of every candidate moved from door to door. Big guns of all the parties had visited the constituency and help several public meetings.

The election day drew nearer and nearer. Every arrangement for holding the election was made. Polling booths were set ready. Many cars and jeeps moved from one village to another. Every candidate was working very hard. The contest was keen. It was difficult to say who would win. Every candidate was highly resourceful. But the Congress and BJP candidate managed to steal the show at most of the places.

On the election day everything was peaceful in the beginning . But the rush of votes went on increasing. In the mean time some political parties tried to create trouble. So the voters became restless. Some of them ran away in fear. But the situation was controlled by the timely arrival of the police party. The polling of votes started, though some troublemakers were still active.

A very interesting feature of the election was that ladies were more active this time than ever before. Those women who generally lived within four walls of their houses were also seen at pooling booths.They awaited their turn for hours. The election, however, was over at 4 p.m.

The worst thing that we found in the election was the role of casteism. Political parties were responsible for the thing. It is , indeed, very harmful for the success of democracy. And the election scenes are as fresh in my mind even today as the music of the solitary reaper was in the heart of William Wordsworth.

" The music in my heart I bore
 Long after it was   heard no more."


So, that's all for today's topic. Hope it will help you. If you have any problem or want to say something then comment below.
Thanks To: KP Thakur...
And Share this post to fb, watsap, So, other people know about it.

What Is The Role Of Opposition Party In Democracy-Politics


Welcome to AnekRoop . Today we are going to discuss about the role of opposition party in democracy and politics.
The topic contains :- Meaning of democracy, Importance of democracy, Demerits of opposition and How opposition be effective.

role of opposition party in politics democracy
role of opposition party in politics democracy
.
What Is The Role Of Opposition Party In Democracy

There is a scope for debate and disagreement in democracy. But in India and some other countries the men in power criticise those who do not agree with them. The ruling party expects everyone to follow and support its policy without any murmur. It is said that people in power do not realise that such an attitude of intolerance of dissent is not good for the healthy   functioning of democracy. An effective , vigilant and working opposition is necessary for the health and efficiency of a democratic government.


An effective Opposition saves the country from disorder. If the party in power neglects public welfare, the votes can oust it and give power to the opposition. A conflict of ideas is better than a clash of arms. An effective Opposition is a safeguard against military coups. It offers a peaceful way of changing the government.



An effective opposition keeps the government alert and active . If there are well informed critics ready to expose the government, the government cannot be arbitrary. The Opposition brings to light the wrong done by the government. So the ruling party cannot afford to neglect its duties.

But the party system has one serious drawback. Generally, the opposition opposes the party in power. The opposition criticises even the good points of the party in power. Thus the public business suffers a lot and the larger interests of the nation are neglected. Sometimes the opposition looks at the thing of the national importance from the point of view of its own political considerations. When the opposition functions to serve its narrow interests, the public start losing faith in it.

The opposition must be a highly disciplined group. It must have a sense of responsibility and a desire to give topmost priority to public interests against personal or party interests. It must try to be responsible and healthy, only then it can prevent the ruling party from misusing its power.

The opposition must have a positive and and constructive approach to problems. Indian political parties sometimes act with vested interests. They believe in attacking the government in order to serve their own political purposes. Such an opposition has no meaning in democracy. We need a united, disciplined , principled opposition in India today to work as a vigilant watch-dog to the functioning of democracy. We hope the members of the opposition parties will realise their duties and responsibilities to the nation.



So, that's all for today's topic. Hope it will help you. If you have any problem or want to say something then comment below.

Thanks To: KP Thakur...
And Share this post to fb, watsap, So, other people know about it.

Teacher के Job के लिए Application


नमस्कार दोस्तों आपका AnekRoop में स्वागत है।  आज हम बात करेंगे Teacher के Job के लिए Application के बारे में। मैंने अपने पिछले post में Job ke liye application  लिखा है। आप इन्हे भी जरूर पढ़े।
तो हम हिंदी और English दोनों भाषाओं में Application लिखेंगे , जिनसे आपको अधिक मदद मिल सके।

teacher ke job ke liye application
teacher ke job ke liye application
.
यदि आप teacher के job के लिए apply कर रहे हैं तो यहाँ पर कई सारे विकल्प भी आते है।
जैसे -
 Part Time Teaching Job के लिए।
Government Teacher के लिए। - जिसके लिए हमें form भरना होता है , फिर exam देना होता है और उसके बाद ही application देना होता है।
Primary या Secondary School में Teacher के job के लिए।

तो आप अपनी योग्यता के अनुसार Teaching Job के लिए Apply कर सकते हैं। अब आपको ऐसे application  लिखना है जिसे पढ़कर अगला व्यक्ति को लगे कि इससे बढ़िया मुझे और कोई नहीं मिल सकता , और वह आपको नौकरी देने में मजबूर हो जाये।

इस post में 4 application है। 2 English में और 2 हिंदी में।

तो चलिए सुरु करते हैं -

Application for part-time Teacher Job

                                                                                                          3/8, Khushi Bhawan,
                                                                                                                Bank  Road,
                                                                                                                Dhanbad -5
                                                                                                                5th Feb., 2018

To,
The Advertiser,
Box 251,
" The Daily Amar Ujala",
Dhanbad.

Sub:- Part-time teacher job.

Dear Sir,
               With reference to your advertisement in "The daily Amar Ujala", dated the 10th January , 2018, I have the honour to apply for the post of a part time Tutor, an opportunity, that I had been looking for the last two months.

I am teaching Intermediate students of several colleges at my coaching centre and taking English and Commerce.

I am present 35 years of age and have to my credit 11 years of teaching experience. A good number of my pupils have shown brilliant results and have the honour of occupying some of the honourable jobs in private and govt. offices. 

My method of teaching is based on the latest teaching methods. It is rather , more of a friendly nature that my students have always liked me and tried to grasp things. These is no place for fear or terror.

I am in a position to spare my time between 3p.m and 8 p.m. and expect a minimum tuition fee of Rs. 25000/- per month.

I shall be glad to call on you at the time mentioned by you in the advertisement.

                                                                                                               Yours faithfully,
                                                                                                                 Sumit Mahato 
                                                                                                              Mo  - 9977 ******

आप इस application का photo भी प्राप्त कर सकते हैं।

application for teacher job in english.



Note :-
part -time teaching job के लिए जब आप apply कर रहे हो , तो ध्यान दे कि आपको उसके advertisement की जानकारी कहाँ से मिली है , यहाँ पर मैंने newspaper के बारे में बताया है , लेकिन आजकल online का जवाना है - तो आप application के 1st line में , जहाँ लिखा है With reference to your (website  xyz .com)  लिख सकते हैं।

Part Time Teacher Job के लिए Application हिंदी में।

                                                                                                                     3 /8 , ख़ुशी भवन
                                                                                                                         बैंक रोड
                                                                                                                        धनबाद -5
                                                                                                                   5 फरवरी , 2018

सेवा में ,                                                                       
श्रीमान विज्ञापक महोदय ,
बॉक्स 205
द डेली अमर उजाला ,
धनबाद।

विषय :- अंशकालिक (part -time ) शिक्षक के आवेदन के लिए  ।

महोदय ,
                आपके विज्ञापन के सन्दर्भ  'द डेली अमर उजाला' जो की 10 जनवरी 2018 को प्रकाशित हुई थी।
मैं अंशकालिक शिक्षक की नौकरी के लिए आवेदन करना चाहता हूँ , जिसकी मुझे पिछले 2 महीने से इंतज़ार थी।
मैं अपने कोचिंग सेंटर में कई कॉलेज के इंटरमीडिएट छात्रों को पढ़ा रहा हूँ। जिसमें मैं अंग्रेजी और कॉमर्स विषयों पर पढ़ाता  हूँ।

मैं अभी 35 वर्ष का हूँ और मेरा शिक्षक के कार्य में 11 सालों का अनुभव है। मेरे विद्यार्थियों ने बेहतरीन प्रदर्शन किये है और सरकारी और प्राइवेट सेक्टर में ऊँचे स्तर पर काम कर रहे हैं।

मैं नवीनतम पद्धति द्वारा  बच्चों को पढ़ाता हूँ। बल्कि ,एक दोस्ताना व्यवहार  है कि मेरे क्षात्रों ने मुझे हमेशा पसंद किया है और चीजों को समझने में मेरी मदद की है।

मैं 3 pm से 8 pm तक कार्य में  समय देने की स्थिति में हूँ।  और मैं प्रति माह कम से कम 25000 /- रुपयों की उम्मीद करता हूँ।

मुझे आपके कॉल की बेसबरी से इंतज़ार है।

                                                                                                         आपका विश्वासी।
                                                                                                           सुमित महतो
                                                                                                      मो - 9977 ******


Part time teacher के job के लिए हमने application पढ़ लिया है , और अब हम application लिखेंगे full time teacher के job के लिए। जो की हमें किसी private school college या सरकारी school या college में देना है।




आप इस application का photo भी प्राप्त कर सकते हैं।

teacher ke job ke liye application hindi.

Application for the post of a Teacher 

To,
The Principal,
Modern College,
Delhi,

Sub:- For the post of an Economics Teacher

Sir,

      I have the honour to apply for the post of 'Teacher in Economics' , advertised in The Hindustan Times of 15th January, 2018. I beg to submit the following details regarding my following experience, age etc.

Name:                       Sumit Mahato
Father's Name:          Sri Hari Krishna Mahato
Address:                    CL- 169 Salt Lake, Kolkata
Date of birth:             Oct. 18 , 1993
Nationality:                Indian

Education Qualification:

i) High School:                in 2008 from the CBSE Board, Kolkata, 1st division with 91% marks sub.                                             Hindi, English, Science, Mathematics and Biology.

ii) Intermediate:              in 2010 from the CBSE Board, Kolkata, 1st division with 90% marks, sub.                                             Hindi, English , Psychology, Economics and Sanskrit.

iii) B.A.                           in 2013 from the Delhi University, 1st division with 85% marks, sub.                                                    General English, English Literature, Psychology and Economics.

iv) M.A. Economics:       in 2015 from the Delhi University , 1st division with 86% of marks, 2nd                                               position in the University, sub. Economics.



I am teaching Intermediate students of several colleges at my coaching centre and taking English and Economics .

My method of teaching is based on the latest teaching methods. It is rather , more of a friendly nature that my students have always liked me and tried to grasp things. These is no place for fear or terror.

References:

i) Mr. A.C. George, Principal , I.N.C. College, Delhi, and Mr, L.C. Gupta M.L.A.
ii) The Principal of the I.N.C Delhi Where I received my college education, will be glad to certify my conduct, character and efficiency.

           Should you kindly grant me an interview I shall glad to give you further information you may need.
         
                                                                                                                   Yours faithfully,
                                                                                                                    Sumit Mahato
                                                                                                                  Mb  - 9977 ******


आप इस application का photo भी प्राप्त कर सकते हैं।


application for the teacher job.

Teacher के  Job के लिए Application 

सेवा में ,                                                                     
श्रीमान प्रधानाचार्य  महोदय ,
मॉडर्न कॉलेज ,
नई दिल्ली।

विषय :-  अर्थशास्त्र शिक्षक के आवेदन के लिए  ।

महोदय ,
                आपके विज्ञापन के सन्दर्भ  'द हिंदुस्तान टाइम्स ' जो की 10 जनवरी 2018 को प्रकाशित हुई थी।
मैं  'अर्थशास्त्र शिक्षक ' की उपाधि  के लिए आवेदन करना चाहता हूँ , जिसकी मुझे पिछले 2 महीने से इंतज़ार थी।
मेरी  निम्नलिखित अनुभव और आयु की जानकरी नीचे दी गयी है।

नाम :                        सुमित महतो
पिता का नाम :           श्री हरी कृष्ण महतो
पता :                        CL- 169 साल्ट लेक , कोलकाता
जन्म तिथि :               Oct. 18 , 1993
राष्ट्रीयता :                 भारतीय

शैक्षणिक योग्यता :

i) High School:                2008 में  CBSE बोर्ड , कोलकाता  द्वारा 1st डिवीज़न 91% अंकों के साथ उत्तीर्ण                                                किया। जिनमे विषय थे -  हिंदी ,अंग्रेजी ,विज्ञान ,गणित और जीवविज्ञान।

ii) Intermediate:             2010  में  CBSE बोर्ड , कोलकाता  द्वारा 1st डिवीज़न 90 % अंकों के साथ उत्तीर्ण                                                किया। जिनमे विषय थे -  हिंदी ,अंग्रेजी ,मनोविज्ञान ,अर्थशास्त्र और गणित।

iii) B.A.                           2013   में  दिल्ली यूनिवर्सिटी   द्वारा 1st डिवीज़न 85 % अंकों के साथ उत्तीर्ण                                                किया। जिनमे विषय थे -  सामान्य अंग्रेजी ,अंग्रेजी ,मनोविज्ञान ,अर्थशास्त्र।

iv) M.A. Economics:       2015    में  दिल्ली यूनिवर्सिटी  द्वारा 1st डिवीज़न 86 % अंकों के साथ उत्तीर्ण                                                किया। जिनमे विषय थे -  अर्थशास्त्र। और मैं पुरे यूनिवर्सिटी में दूसरे स्थान में रहा।


मैं अपने कोचिंग सेंटर में कई कॉलेज के इंटरमीडिएट छात्रों को पढ़ा रहा हूँ। जिसमें मैं अंग्रेजी और अर्थशास्त्र विषयों पर पढ़ाता  हूँ।

मैं नवीनतम पद्धति द्वारा  बच्चों को पढ़ाता हूँ। बल्कि ,एक दोस्ताना व्यवहार  है कि मेरे क्षात्रों ने मुझे हमेशा पसंद किया है और चीजों को समझने में मेरी मदद की है।


मुझे आपके कॉल की बेसबरी से इंतज़ार है।

                                                                                                         आपका विश्वासी।
                                                                                                           सुमित महतो
                                                                                                      मो - 9977 ******

आप इस application का photo भी प्राप्त कर सकते हैं।



teacher ke job ke liye application.



Note :- आप चाहे तो with reference भी दे सकते है।  इसमें आप अपने कॉलेज के principal का नाम दे और अन्य बड़े लोगों का नाम दे , जिनसे आपके अच्छे परिचय है , किसी leader , professor का भी नाम दे सकते हैं , जिनके साथ आपने काम किया हो , या उन्होंने आपके काम को सराहा हो।

तो दोस्तों यह थी जानकारी teacher के job के लिए applicatiion के बारे में। मुझे उम्मीद है की आपको ये जानकारी जरूर पसंद आई होगी।


यदि आपका कोई सवाल या कोई सुझाव है तो हमें जरूर नीचे comment करके बताये , और इस post को अपने दोस्तों तक share करे।  ताकि वे भी लाभ उठा सके।

Joint Account को Single Account में Convert करने के लिए Application


नमस्कार दोस्तों आपका AnekRoop में स्वागत है। आज हम जानेंगे की joint account को हम single account में कैसे convert करते है और उसके लिए हम application कैसे लिखेंगे।
यह application हम हिंदी और English दोनों भाषाओं में लिखेंगे ताकि आपको अधिक मदद मिल सके।
तो चलिए अब हम शुरू करते हैं।

joint account to single ke liye application
joint account to single ke liye application
.
Joint Account को हम Single Account में कैसे change करते हैं।

Joint Account को Single Account में convert करना आसान होता है , सिर्फ एक application की जरूरत होती है , और फिर उसका नाम हटा दिया जाता है।
 लेकिन अभी SBI में Joint account को Single Account में Convert नहीं किया जा रहा है। ऐसा नहीं है की बाद में नहीं होगा , बाद में आपका joint account single में convert हो जायेगा , लेकिन कुछ समय के लिए यह अभी बंद है।

कई बैंक में यह भी नियम है कि ,  joint account को single में convert नहीं करते हैं , वो बोलेंगे कि आप अपना account बंद कर ले , फिर से एक नया account open कर ले।

यदि ये service शुरू होगी , joint account को single में convert करने की , तो हम आपको बता देंगे। उसके लिए आप इस website anekroop.com में update रहे।

यह post में उन  बैंक वालों के लिए लिख रहा हूँ ,जहाँ पर ये service चालू है।  क्यूंकि कई comments आ रहे है इसके application के बारे में। तो चलिए जानते है :-


Joint Account को Single Account में बदलने के लिए Application . 

सेवा में ,                                                                                                          दिनांक (              )    
                 श्रीमान शाखा प्रबंधक 
                 (बैंक का नाम , पता )
                 विषय - जॉइंट खाते को सिंगल में बदलने के लिए  । 
                 महाशय ,
                                सविनय निवेदन है कि मैं (अपना नाम लिखे ) आपके बैंक का एक खाताधारी हूँ। 
मेरी पत्नी/बेटे  और मेरा जॉइंट खाता है , अब मैं इस खाते से अपनी पत्नी/बेटे  का नाम हटाना चाहता हूँ , क्यूंकि वह अब यहाँ नहीं रहती/रहता  है।
मेरी पत्नी/बेटे  की जानकारी नीचे दिया गया है :-
नाम -
उम्र -

अतः आपसे निवेदन है कि आप हमारे जॉइंट खाते को सिंगल खाते में बदल दे ।  इसके लिए मैं सदा आपका आभारी रहूँगा। 
                     
                                                                                       आपका विश्वासी। 
                                                                                     नाम           - (अपना नाम लिखे )
                                                                                    A /C  no.    - (अकाउंट नंबर लिखे )
                                                                                    मो               - (मोबाइल no  )
                                                                                      (Sign करें )

आप इस application का photo भी प्राप्त कर सकते हैं।


joint account ko single me convert karne ke liye application




Application To convert Joint Account into Single Account

To,                                                                                                         Date-
    The Branch Manager,
    <bank name>,
    < city>

Sub:- To convert joint account into single.

Sir,
I am  holding a saving bank account with your branch . Me and my wife/son have a joint account in your bank , and now I want to remove my wife/son name from this account because she/he is not living here. The details of my wife/son is given below
Name-
Age-

  So, Kindly convert this joint account into single with my name . I will be highly thankful to you. 

  Yours truly

Name-
Account Number-
Mobile No. -
Sign -

आप इस application का photo भी प्राप्त कर सकते हैं। 




joint account to single account application.



Note - आपका जिसके साथ joint account है उसका नाम लिखे , इस application में मैंने पत्नी और बेटे का option दिया हुवा हूँ।

तो दोस्तों यह थी जानकारी joint account के बारे में और उसके application के बारे में। मैं उम्मीद करता हूँ कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। यदि आपका कोई सवाल या कोई सुझाव है तो हमें comment करके बताये।


और इस post को अपने दोस्तों तक facebook , twitter , watsapp में share करे , ताकि उन्हें भी मदद मिल सके। धन्यवाद।