पिछले जन्म में हम क्या थे ? आगे क्या बनेंगे ? अपने जन्मों के बारे में जाने।


नमस्कार दोस्तों आपका AnekRoop में स्वागत है। आज मैं आपको कुछ ख़ास बताने जा रहा हूँ , इससे पहले आपने इसके बारे में कही नहीं सुना होगा , यह पहली बार दुनिया जानेगी कि
कैसे हम अपने पिछले जन्मों के बारे में जान सकते है।
 हम पिछले जन्मों में क्या थे और
आगे के जन्मों में क्या बनेंगे वह भी जान पाएंगे।
तो आप इस post को अंत तक जरूर पढ़े  , आज आप कुछ नया सिखने वाले हैं।

pichle janm me hm kya the
pichle janm me hm kya the 
.
यह जानकारी practice और proof के ऊपर आधारित है। मैं यहाँ पर किसी धर्म  के ऊपर बात नहीं करूँगा , मैं यहाँ पर Proof के साथ बात करूँगा। ऐसे धर्मों के नजरिये से देखें तो कुछ धर्म कहती हैं कि 84 लाख योनियों के बाद मनुष्य जन्म मिलता है। वहीं कई धर्म कहती हैं कि हमें एक ही जन्म मिलता है।

ऐसे में सच्चाई क्या है , वह सामने नहीं आ पाती। और सच हमेशा 1 होगा।  2 ,4 नहीं होगा।

पिछले जन्मों में हम क्या थे , इसको समझने के लिए चलिए अब हम  कुछ cases और proof के तरफ बढ़ते हैं।

Proof - पिछले जन्मों में हम क्या थे ?


https://hindi.news18.com/news/ajab-gajab/haryana-rebirth-of-boy-in-haryana-palwal-mudda-487095.html
© hindi.news18.com
Case : 1  - एक लड़के की है , जिसे अपने पिछले जन्म के बारे में याद है , यह पिछले जन्म में कैसे मरा था , इसको याद है। यह अपने पिछले जन्म के घर में जाते हैं , वहाँ सबको अपने बारे में बताते हैं फिर सभी परिवार के लोग और गांव के लोग भी इस बात को मान लेते हैं। इसकी जानकारी आपको internet से मिल जाएगी। Zee News में इसके बारे में बताया भी गया था।

babro karlen rebirth
©www.iisis.net
.
Case : 2 - Barbro Karlen ( Swedish लड़की ) एक famous writer , यह कहती है कि मैं पिछले जन्म में एक लड़का थी।  इसका आभास इनको बचपन से ही हो रहा था। फिर वह अपने पापा के साथ पिछले जन्म के स्थान में जाती है और वैसा ही पाती है , जैसा की वह बता रही होती है।

Case : 3 - James Leigninger - इनका जन्म 1998 में हुआ है। 3 साल की उम्र में ही इनका कहना था कि मैं पिछले जन्म में एक Pilot था और एक plan crash में मेरी मौत हुई थी।

Case :4  - Chunai - यह बोहोत special case है अब तक का।  एक 3 साल का लड़का Thailand का। वह कहता है मैं पिछले जन्म में एक teacher था। और उसे गोली से मार दी गयी थी। और इसके इस जन्म में वह गोली की निसान सर के आगे और पीछे पीठ में उसी जगह दिखती है।

आप इन सभी cases की और अधिक जानकारी internet से ले सकते हैं। और ऐसे कई cases हैं - जिनमे लोगों को अपने पिछले जन्मो के बारे में पता चला है।



निसकर्ष सभी cases का - पिछले जन्मों की जानकारी। 

अब यहाँ गौर करने की बात है कि इन सभी में 2 बात common आयी है।

1. की ये सभी बच्चे हैं। यानि कम उम्र में ही इन्हे अपने पिछले जन्मों के बारे में मालूम चला। 
2. कि ये सभी पिछले जन्म में मनुष्य थे। और एक लड़की ने कहा कि मैं पिछले जन्म में लड़का थी। 

यानि लिंग बदला जा सकता है। आप यदि इस जन्म में पुरुष हैं तो हो सकता है कि आप अगले जन्म में स्त्री बन जाएँ। यह संभव है। ऐसा सिर्फ 1 case नहीं , कई cases  सामने आए हैं।

अब इस बात को ध्यान से सुनियेगा कि किसी ने ये नहीं कहा - कि मैं पिछले जन्म में सांप थी , कुत्ता थी , या फिर कोई पंक्षी थी। किसी ने कोई जानवर आदि का नाम नहीं लिया।

इससे हमें 1 बात तो clear हो गयी कि यह कहना कि 84 लाख योनियों में जाने के बाद मनुष्य जन्म मिलता है - यह बात गलत साबित हो जाती है।
और सिर्फ 1 ही जन्म मिलता है जीने के  लिए यह भी गलत साबित हो गया है।

सभी को अपने पिछले जन्मों के बारे में जानकारी क्यों नहीं होती। 

अब चलिए इसपर और गहराई से समझते हैं कि आखिर ऐसा क्यों होता है ? पुनर्जन्म का पता हमें क्यों नहीं होता ? और यदि किसी को होता भी है तो वह बचपन में क्यों होता है ?

ऐसा इसलिए क्यूंकि मृत्यु जो है वह एक बड़ा accident है। आपने देखा होगा कि किसी - किसी की accident में याददास्त चली जाती है। वैसे ही मृत्यु भी एक बड़ी दुर्घटना है , एक accident है। जिससे की लोग अपने पिछले जन्मों के बारे में भूल जाते हैं।

ये पढ़े -

अब कोई दूसरे topic के ऊपर प्रश्न करे कि - यह सब तो ठीक है कि मृत्यु एक accident है और इससे याददास्त चली जाती है लेकिन :-

पिछले जन्म में या आगे के जन्म में हम मनुष्य ही बनेंगे , ऐसा क्यों होता है ?

तो सारे proof और प्रमाण को देखते हुए यह बात सामने आती है कि जन्म तो मनुष्य की ही मिलेगी लेकिन उसमे लिंग का परिवर्तन हो सकता है।  स्त्री है तो पुरुष हो सकता है और पुरुष है तो स्त्री हो सकता है।

ऐसा इसलिए क्यूंकि आत्मा एक बीज है। जिस तरह पेड़ों के बीज होते हैं।
पपीता  का बीज होता है :-  जब लगाया जाता है तब पता पड़ता है कि यह male के रूप में जन्म लेगा या female के रूप में ? नहीं पता पड़ता है। ऐसे ही यह पता नहीं पड़ता कि आत्मा कब स्त्री का रूप लेगी और कब पुरुष का। संस्कारों की बात है।

हम अगले जन्म में क्या बनेंगे ?

यह तो साबित हो गया है कि हमारा आने वाला जन्म मनुष्य ही होगा।  लेकिन प्रश्न यह है कि ऐसा क्यों होता है ?

तो जिस तरह आम का बीज आम होता है - यदि आप आम का बीज रोपेंगे तो उसमे जामुन होगा ?
नहीं होगा।

कटहल का बीज लगाइयेगा तो उसमे सेव कैसे फरेगा ?
नहीं फरेगा।

अब मैं आपसे पूछता हूँ , क्या पेड़ों में जान होता है ?
यदि हम पेड़ के बीज को निकाल दें तो क्या पेड़ बचेगी ?
नहीं बचेगी।

यानि पेड़ों में भी आत्मा होती है , पेड़ों की वह बीज , आत्मा होती है।

उसी तरह मनुष्य में बीज अलग हैं , जानवरों के अलग हैं , पक्षियों के अलग हैं।

जैसे - कोई कुत्ता हो , तो वह हमेशा कुत्ता योनि में ही जन्म लेगा।  कोई तोता हो , तो वह तोता योनि में ही जन्म लेगा। और मनुष्य , मनुष्य में ही जन्म लेगा।

तो अब मुझे लगता है कि आपको यह clear हो गया होगा कि पिछले जन्मों में हम क्या थे ? और आगे के जन्मो में हम क्या बनेंगे।

अब चलिए तीसरे और अंतिम विषय के ऊपर बात करते हैं और वह है



हम अपने पिछले जन्मों के बारे में कैसे जान पायेंगे। 

इससे पहले कि मैं आगे कुछ बताऊँ , मैं आपसे कुछ प्रश्न पूछना चाहता हूँ।

प्रश्न है :- क्या आप कभी  a b c d भूल पाएंगे ? कभी गिनती भूल पाएंगे ?
यदि आपकी उम्र 60 साल की हो जाये , तो भी क्या आप ये भूल पाएंगे ?

नहीं भूल पाएंगे। क्यूंकि इसका इस्तेमाल आप हमेशा करते हैं।

अब आप सोच रहे होंगे कि इसका connection पूर्व जन्मों से कैसे है ? तो मैं कहूंगा बिलकुल है।
जिस तरह  a b c d और गिनती का हमारे जीवन में बार - बार उपयोग होने पर हमें पूरी ज़िन्दगी याद रहती है। उसी तरह हम जब अपने आत्मा को बार - बार याद करेंगे, तो हम उसके बारे में जानते जायेंगे।

यदि हम सभी cases के तरफ देखें तो उसमे भी जो अपने पिछले जन्म के बारे में जान पाए - तब उनकी उम्र आप देखे तो सभी की लगभग 3 से 4 वर्ष की ही थी। यानि ज्यादा समय नहीं हुआ था उन्हें मृत्यु को और उनको अपने पिछले जन्म के बारे में याद आने लगा।

तो इनको अपने पिछले जन्मो के बारे में याद क्यों आया ? क्यूंकि अधिक लगाव था attachment था अपने पिछले जन्म से तो उनका ऐसा संस्कार बन गया जो अगले जन्म में भी वह भूल नहीं पाए। लगाव का संस्कार बन गया।
सभी लोग कहते है ना कि तुम क्या लेकर आये हो और क्या लेकर जाओगे ?
तो उसका जवाब है हम संस्कार लेकर आये है और संस्कार लेकर के जायेंगे। 

आपने देखा होगा कि  3 -4 साल का बच्चा बोहोत अच्छा गाना गाता है कोई बोहोत अच्छा paint करता है। तो 3 -4 साल में ही उन्होंने वो सब कहाँ से सीखा , तो पिछले जन्मो का संस्कार इस जन्म में transfer हो गया।

तो संस्कार बनाने की बात है। यदि हम अपने को आत्मा समझने की संस्कार बना ले तो हम अपने आत्मा के जन्मो को जान पाएंगे। और कोई भी अपने जन्मो के बारे में जान पायेगा।  Practice की बात है। इसमें समय लगेगा लेकिन कुछ चमत्कार होगा।

आप हमें comment करके बताये आपको यह जानकारी कैसी लगी अपने जन्मों के बारे में। और यदि आप अपने आत्मा को याद करने के संस्कार के  बारे में जानना चाहते है तो वह भी लिखे।
हम आपके लिए इससे सम्बंधित ओर अधिक जानकारी देंगे।
इस post को अंत तक पढ़ने के लिए बोहोत-बोहोत  धन्यवाद।


यदि आप मेरी मदद करना चाहते है तो आप इस post को अपने परिवार के लोगों , दोस्तों तक जरूर पहुंचाए।
यदि आप social media , fb watsapp में है तो आप इन्हे जरूर share करे।  ताकि उन्हें भी यह जानकारी मिल सके।
एक बार फिर से धन्यवाद। 

Share this

Never miss our latest news, subscribe here for free

Related Posts

Previous
Next Post »