NRC Kya Hai? NRC से जुड़े रोचक बातें।


नमस्कार दोस्तों आपका AnekRoop में स्वागत है। आज हम बात करेंगे NRC के बारे में। NRC क्या है ? NRC का full form क्या होता है ? NRC असम में कैसे लागु हुई और उसका परिणाम क्या हुवा ? पुरे भारत में NRC कब लागु होगी ? CAA के बाद NRC लागु हुई तो क्या होगा ? NRC के क्या फायदे हैं और क्या नुकसान ? और भी कुछ अन्य जानकारी NRC के बारे में हम आज जानेंगे , तो इस post को आप अंत तक जरूर पढ़े आपको कुछ नई जानकारी जरूर मिलेगी।

NRC क्या है? NRC का full form क्या होता है?

NRC-National Register for Citizenship को यदि हम आसान भाषा में समझे तो यह एक Register है जिसमे सभी के records रखे जायेंगे। जिस तरह school में register होते हैं जिसमे students की जानकारी होती है वैसे ही यह NRC है जिसमे पुरे देश के लोगों का record होगा।
इसमें व्यक्ति के पहचान से जुडी सभी जानकारियां होगी , NRC होने पर देश के सभी लोगों को अपनी नागरिकता सिद्ध करनी होगी कि हम भारत में रहने वाले हैं जिसके लिए आपसे documents मांगे जायेंगे। ये documents क्या होंगे इसकी अभी तक कोई पुस्टि नहीं हुई है। 



NRC लाने का मकसद क्या है? NRC से जुड़े रोचक बातें। 

भारत में घुसपैठिये बोहोत बड़ी समस्या है। बांग्लादेश से , नेपाल से , पाकिस्तान से लोग भारत में आ जाते हैं और यहीं पर अपनी ज़िन्दगी बिता देते हैं , ऐसे में जो असल भारतीय नागरिक है उनको नौकरी मिलने में परेशानी होती है और इससे जान-मान का भी खतरा होता है।

ऐसे में NRC की मदद से यह पहचाना जायेगा कि कौन भारत के नागरिक है और कौन नहीं है और जो भारत का नागरिक नहीं होगा उनको डिटेंशन सेंटर भेज दिया जायेगा या उनके देश में भेज दिया जायेगा। ये है NRC का मकसद।

लेकिन इसमें कई लोगों का कहना है कि देश में पहले से ही नागरिकता के लिए आधार कार्ड को बनाया गया है फिर NRC की क्या जरूरत है ? सरकार आधार कार्ड के records से भी तो नागरिकता दे सकती है।

nrc protests in India
nrc protests in India
.
आसाम के NRC में क्या हुवा?

आसाम में NRC 2019 में हुई है। जिसमे आसाम के हरेक लोगों को अपनी जागरिकता सिद्ध करनी थी। जिसके लिए उन्हें 1971 से पहले की documents दिखाने थे। लगभग 50 साल पुराने documents , ऐसा इसलिए हुवा था क्योंकि 1971 में बांग्लादेश बना था और बांग्लादेश के बनने के बाद जो लोग आसाम में रह गए थे उन्हें भारतीय नागरिकता मिल गई थी , इस हिसाब से सभी आसाम के नागरिक के पास documents होने चाहिए।

लेकिन ऐसा नहीं हुवा , Birth Certificate की तो दूर की बात कई लोगों को पता भी नहीं था कि मेरा जन्मदिन कब है ? लगभग 3 करोड़ आबादी वाले राज्य में 19 लाख लोग अपनी नागरिकता सिद्ध नहीं कर पाए थे। जिसमे 15 लाख हिन्दू और 4 लाख अन्य धर्मों के बताये जा रहे हैं।

सरकार के कार्यशैली पर सवाल उठे , कहीं पर पैसे लेने की बात भी सामने आयी तो कई लोग आत्महत्या भी कर बैठें। सरकार ने इसके लिए 52000 लोगों को कार्य में लगाया था और NRC के कैंप जगह -जगह खोले थे , कुल 1220 करोड़ रुपये खर्च किये गए थे।

यदि CAA आती है तो उन 15 लाख हिन्दू लोगों को नागरिकता मिल जाएगी और 4 लाख मुस्लिम लोगों को नहीं मिलेगी इसीलिए आसाम में सबसे ज्यादा विरोध प्रदर्शन हो रहा है।


CAA के बाद NRC लागु हुई तो क्या होगा?

यदि CAA के बाद NRC लागु होती है तो जो हिन्दू , ईसाई ,सिक्ख लोग अपनी नागरिकता सिद्ध नहीं कर पाएंगे उन्हें CAA की वजह से फिर से नागरिकता दे दी जाएगी और जो मुस्लिम अपनी नागरिकता सिद्ध नहीं कर पाएंगे उन्हें डिटेंशन सेंटर भेजा जायेगा।

उसमे भी जो अमीर होंगे वो 2 नंबर करके नागरिकता ले पाएंगे , ऐसा भारत में होता ही है , चंद पैसों के लिए लोग बिक जाते हैं। और जो गरीब मुसलमान होंगे उन्हें परेशानी होगी।

जो भारतीय हिन्दू अपनी नागरिकता सिद्ध नहीं कर पाएंगे वो बच सकते हैं लेकिन जो भारतीय मुस्लिम अपनी नागरिकता सिद्ध नहीं कर पाएंगे तो उन्हें भी घुसपैठिया समझकर दबोचा जायेगा।

ऐसा भी हो सकता है कि जो गरीब हिन्दू होंगे जो अपनी नागरिकता सिद्ध ना कर पाएंगे तो उन्हें भी डिटेंशन सेंटर भेज देंगे क्योंकि गरीब लोग सरकार के खिलाफ आवाज़ उठाते हैं , रोटी -कपडा -घर मांगते हैं , नौकरी मांगते हैं तो उन लोगों से सरकार को vote तो मिलेंगे नहीं तो उन्हें भी डिटेंशन सेंटर भेजा जा सकता है जिससे की उनकी पार्टियों की हमेशा जित होते रहे।


NRC होने पर क्या-क्या (documents ) कागज़ात मांगे जा सकते हैं ?
NRC होने पर सबसे अहम documents जो मांगे जायेंगे वो है:-

  • Birth Certificate
  • Parents Birth Certificate
  • Land/ Property Paper 
  • School or College Certificates
  • Government Certificates
  • Government service certificates
  • House Paper
  • Passport




NRC के क्या फायदे हैं और क्या नुकसान है?

NRC से देश को फायदा होगा जिससे कि घुसपैठियों को बाहर निकाला जायेगा।
भारत के नागरिकों के लिए एक register बनेगा जिससे की नागरिक को पहचाना जायेगा और उसके अनुसार सरकारी योजनाओं का लाभ दिया जायेगा।

NRC से नुकसान सबसे ज्यादा मुस्लिम लोगों को होगी। जो घुसपैठिये मुस्लिम हैं उन्हें साफ़ तोर पर भगाया जायेगा।
गरीब लोग जो अपनी नागरिकता सिद्ध नहीं कर पाएंगे -जिनके कागजात जल गए हो ,चोरी हो गए हो , बाढ़ में डूब गए हो। ऐसे लोगों के लिए भी बोहोत बड़ी मुश्किल होने वाली है।
यदि परेशानी की बात करें तो हरेक लोगों को लाइन में लगकर अपनी नागरिकता सिद्ध करनी होगी। इसमें लोगों का समय और पैसा दोनों बरबाद होगा।
जिन लोगों को डिटेंशन सेंटर भेजा जायेगा उनकी ज़िन्दगी दर्दनाक या कहें नर्क के समान बन जाएगी वो भी इसलिए क्योंकि वे अपनी नागरिकता सिद्ध नहीं कर पाए।
कुल मिलाकर देखें तो ये उत्पीड़न देने वाला कानून साबित होता है। जिसमे लोगों की ज़िन्दगी के साथ खेला जायेगा।

इन सभी बातों से आप समझ ही गए होंगे कि लोग आज क्यों NRC का विरोध कर रहे हैं। तो ये थी जानकारी NRC के बारे में ,मुझे उम्मीद है कि आपको ये जानकारी जरूर मदद करेगी। यदि आपका कोई सवाल या कोई सुझाव है तो हमें comment करके बताये।


आप इस post को niche के share option से लोगों तक जरूर पहुंचाए ताकि और लोगों तक भी सच्चाई पहुँच सके। अपना महत्वपूर्ण समय देकर इस post को पढ़ने के लिए आपका बोहोत-बोहोत धन्यवाद। 

Share this