Citizenship Amendment Act Kya Hai ? CAA की जानकारी


नमस्कार दोस्तों आपका AnekRoop में स्वागत है। आज हम बात करेंगे Citizenship Amendment Act यानि नागरिकता संसोधन कानून के बारे में। यह Citizenship Amendment Act क्या है ? क्यों लोग इस कानून के विरोध में और support में रैलियां निकाल रहे हैं ? इस Citizenship Amendment Act से किसको फायदा होगा और किसको नुकसान होगा ? इस कानून के ऊपर सरकार का क्या कहना है और विपक्ष का क्या कहना है ? और लोगों का भी क्या कहना है ? लोगों की क्या मांग है इसके ऊपर भी आज हम बात करेंगे।

Citizenship Amendment Act क्या है ?

यह अब एक कानून बन चूका है जिसमे पाकिस्तान , अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आये ऐसे लोगों को भारत में नागरिकता देने की बात है जिनको धार्मिक रूप से प्रतारणा की गई हो और जो 31 December 2014 से पहले भारत आये हो। जिसमे हिन्दू , सीख़ ,बोद्ध ,जैन ,ईसाई और पारसी सामिल है।

यानि साफ़-साफ़ कहें तो मुस्लिम धर्म के लोगों को छोड़कर सभी धर्मों के लोगों को नागरिकता देने का कानून है। ऐसा इसलिए भी क्योंकि सरकार के अनुसार उन देशों में मुस्लिम आबादी अधिक है और उसमें अन्य धर्म के लोग बोहोत कम रह गए है इसीलिए उन लोगों को बचाने के लिए यह कानून लागु किया गया है।

citizenship amendment act - caa
citizenship amendment act - caa
.
Citizenship Amendment Act के समर्थन  में लोगों का क्या कहना है?
  • CAA के समर्थन में BJP भारतीय जनता पार्टी के लोग जगह-जगह में समर्थन रैली निकाल रहे हैं। उनके समर्थन में लोगों का कहना है कि ये Citizenship Amendment Act भारत के मुसलमानो को किसी भी प्रकार का भय पैदा करने के लिए नहीं है बल्कि ये नागरिकता देने का कानून है नागरिकता लेने का कानून नहीं है। 
  • अमित शाह का कहना है कि उन देशों में monority धर्म के लोग 21 % थे जो अब घट करके 2 % हो गए हैं हालाँकि ये data उन्हें कहाँ से मिली है इसकी कोई पुस्टि नहीं की गई है। 
  • कई समर्थन करने वालों का कहना है कि हिन्दू धर्म की जनसँख्या दिन-प्रतिदिन घटते जा रही है , इस धर्म को बचाने के लिए इस तरह का कानून जरूरी है। 
  • CAA के समर्थन के साथ -साथ कई लोग NRC के समर्थन में भी कह रहे हैं कि देश में घुसपैठियों की जनसँख्या बढ़ गयी है जिसे कम करने के लिए NRC जरूरी है। 

Citizenship Amendment Act के विरोध में लोगों का क्या कहना है ? CAA की जानकारी

आज देश भर में जगह-जगह रैलियां हो रही है जिसमे बंगाल और आसाम में सबसे ज्यादा रैलियां हो रही है। उन लोगों का कहना है कि ये Citizenship Amendment Act





  • भारत के संविधान के विपरीत है। जहां संविधान में हरेक धर्म को समानता दी गई है। संविधान का जो P reamble है उसी में लिखा है कि हम धर्मनिरपेक्षता बनाये रखेंगे वहीँ यह कानून मुस्लिम धर्म को boycott कर रही है। 
  • वे लोग Citizenship Amendment Act का इसलिए भी विरोध कर रहे हैं क्योंकि पाकिस्तान ,अफगानिस्तान में सिया मुसलमान के ऊपर , श्रीलंका में मुसलमान के ऊपर , China में मुसलमान के ऊपर भी धार्मिक प्रतारणा हो रही है लेकिन इस कानून में इनका कोई जिक्र नहीं है। 
  • और अगला जो विरोध हो रहा है वो NRC-National Register for Citizenship के लिए हो रहा है। एक तरफ अमित शाह संसद में NRC लाने की बात करते हैं वहीँ प्रधानमंत्री NRC नहीं लाने की बात करते हैं। NRC का ख़ास तोर पर विरोध आसाम से शुरू हुवा जिसमे 20 लाख लोग अपनी नागरिकता नहीं साबित कर पाए और जिसमे 14 लाख लोग हिन्दू निकले। तो उन बचे हुवे 14 लाख हिन्दुओं को नागरिकता देने के लिए और मुसलमान को बाहर करने के लिए ये Citizenship Amendment Act लाया गया है जिसका की विरोध किया जा रहा है। तो इस तरह सभी मुसलमानो को डिटेंशन सेंटर में डाल दिया जायेगा China की तरह।  ऐसा विरोध करने वाले लोग कह रहे हैं। 
  • जो Citizenship Amendment Act का विरोध कर रहे हैं उनमें से कई लोग यह भी कह रहे हैं कि इस वक़्त देश आर्थिक तंगी से गुज़र रहा है। GDP 4.5 हो गयी है और नौकरियां ख़त्म होते जा रहे हैं। सरकार सभी सरकारी कंपनियों को private कर रही है। तो इन सभी मुद्दों के ऊपर लोगों का ध्यान ना जाये इसीलिए हिन्दू -मुसलमान करके लोगों को लड़ाने के लिए इस कानून को लाया गया है जिसमे मुसलमान को अलग किया गया है  जिससे की लोग आपस में ही लड़ाई करके मर जाये। 
  • कुछ लोग इस Citizenship Amendment Act का इसलिए भी विरोध कर रहे हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि सरकार पूरी तैयारी से इस कानून को नहीं बनाई है। जिस तरह नोटबंदी में लोगों को परेशान होना पड़ा था सरकार की पूरी तैयारी नहीं थी उसी तरह यह कानून भी बना है जिसमे अभी तक planning भी नहीं हुई है कोई data भी नहीं है सरकार के पास, कि कितने लोग  प्रतारणा से आये हैं ? बांग्लादेश के प्रधानमंत्री कहते हैं कि हमारे देश का माहोल बोहोत ही सामान्य है यदि कोई बांग्लादेशी भारत में हैं तो हम उसे नागरिकता देंगे।इससे भारत सरकार के काम करने के ऊपर साफ़-साफ़ उंगली उठती है। 
  •  
  • कुछ लोग इस Citizenship Amendment Act -CAA का विरोध इसलिए भी कर रहे हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि ये कानून कोई solution नहीं है। हम दूसरे देश के प्रतारणा हुवे लोगों को नागरिकता देने की बात कर रहे हैं वहीँ अपने ही भारत देश में कितने mob lynching के cases आ रहे हैं अकेले झारखण्ड में पिछले साल 21 cases धर्म प्रतारणा को ले करके आये हैं। आय दिन हिन्दू -मुस्लिम में लड़ाई होते रहते हैं। तो हम अपने ही देश को पूरी तरह धर्मनिरपेक्षता नहीं दे पा रहे हैं ऐसे में दूसरे देशों के लोगों को हम धर्म प्रतारणा को लेकर कैसे नागरिकता दे सकते हैं। 
  • और कुछ बुद्धिजीवियों का इस Citizenship Amendment Act को लेकर मानना है कि यदि ये कानून आता है तो भारत की जो अर्थव्यवस्था है वो और भी नीचे चली जाएगी। नागरिकता प्राप्त किये गए लोगों के लिए खाना -रहना -नौकरी देना इत्यादि जैसी जरूरतों की पूर्ति करनी होगी जिससे की सरकार के पैसे खर्च होंगे और आर्थिक स्थिति और निचे चली जाएगी। नौकरी देने में तो भारत सरकार ऐसे ही असफल रही है तो बाहर से आये लोगों के लिए सरकार क्या करेगी ? क्या बिठा करके खिलाएगी ? और यदि नौकरी देगी तो भारत के नागरिक कहाँ जायेंगे ? ऐसे और भी कई वजहें हैं जिनको लेकर के लोग आज सड़कों पर उतर आये हैं और इस Citizenship Amendment Act के विरोध में खड़े हैं जिसका कोई नेतृत्व करने वाला नहीं है आज भारत का युवा , देश के students इसके विरोध में खड़े हैं। 
Ye bhi Jane:-

कुछ आम लोगों का प्रश्न CAA के ऊपर जो रैलियों में नहीं जाते। 


  • सरकार मुस्लिम धर्म के लोगों को छोड़कर सभी धर्म के लोगों को नागरिकता दे रही है , तो जो मुस्लिम धर्म के लोग प्रतारणा से आये हैं वे कहाँ जायेंगे ?
  • यदि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुस्लिम होते या उनके पार्टी में आधे लोग मुसलमान होते तब भी क्या वे इस तरह का कानून लाते ?
  • सरकार आंदोलन कारियों के ऊपर property नुकसान का आरोप लगा रही है वहीँ कश्मीर में पिछले 4 महीनों से internet बंद है जिसमे 10000 करोड़ रुपयों का नुकसान हुवा है उस property का नुकसान सरकार को भी देना चाहिए। 
  • ऐसा क्यों है कि जहां BJP की सरकार है वहीँ प्रदर्शनकारी property का नुकसान करते हैं ? 
  • क्या इस Citizenship Amendment Act  से सच में लोगों का भला होगा ? यदि भला होगा तो कैसे ?
  • इस Citizenship Amendment Act के बाद भारत में mob lynching बढ़ने के कई ज्यादा आसार हैं। जिन मुस्लिमों को नागरिकता नहीं मिलेगी वो क्या करेंगे ? ज़रा सोच के देखिये। 
  • दूसरे देशों से आये नागरिक हिन्दू हैं या दूसरे धर्म के हैं इसका पता सरकार कैसे लगाएगी ? हमने कई आधार कार्ड के fraud देखें हैं जिसमें कई लोग पकड़ाए भी हैं। ऐसे में क्या अमीर लोग नागरिकता के लिए झूठी आधार कार्ड नहीं बना सकते ? या पैसे से अपना नाम नहीं बदल सकते ?


Citizenship Amendment Act (CAA ) से किसको फायदा होगा और किसको नुकसान होगा ?

इस कानून से सबसे ज्यादा फायदा BJP को होगा। (यदि राजनितिक नजरिये से देखें तो ) क्योंकि जिन लोगों को वे नागरिकता देने की बात कर रहे हैं वे उन्हें ही support करेंगे और उन्हें ही vote करेंगे।
दूसरे नंबर में उनलोगों का फायदा होगा जिन्हे नागरिकता मिलेगी।

यदि नुकसान की बात करें तो सबसे ज्यादा नुकसान गरीब लोगों को होगा क्योंकि गरीब लोग आज ऐसे भी बेरोजगार हैं और यदि इसमें और लोग जोड़ दिए जाये तो गरीब लोगों को नौकरी लेने में और ज्यादा competition करना होगा।
                      और जो गरीब लोग नागरिकता लेना चाहते हैं उन्हें भी दिक्कत होगी क्योंकि जो अमीर होंगे वो पैसे देकर जाली कागजात बना सकते हैं।
यदि NRC की बात करें तो इसमें भी गरीब लोगों को ही परेशानी होगी जैसा की केरल में हुवा। अमीर लोग अपना कागजात बना लिए और गरीब फँस गए।

ऐसा नहीं है कि सिर्फ गरीबों को ही नुकसान होगा , जो आम लोग है उन्हें भी परेशानी होगी। Birth Certificate बनाने होंगे , अपने पूर्वजों का दस्तावेज दिखाना होगा। इत्यादि और भी कागजात हो सकते हैं।

जो दूसरे देश से आये गरीब मुसलमान होंगे उन्हें सबसे ज्यादा नुकसान होगा उन्हें डिटेंशन सेंटर भेज दिया जायेगा क्योंकि पाकिस्तान और अफगानिस्तान एक भी भारत से आये व्यक्ति को नहीं लेने वाला है।

यदि राजनितिक नज़रिये से देखें तो सबसे ज्यादा फायदा बीजेपी को होगा। जो गरीब हैं उनको डिटेंशन सेंटर भेज दिए जायेंगे जो उसे vote नहीं देते , जो अपनी हक़ की बात करते हैं , जो नौकरी , खाना मांगते हैं। बाकि बच गए अमीर धार्मिक लोग जो बीजेपी को समर्थन करेंगे और इससे अन्य पार्टियों को किसी भी तरह से मौका नहीं मिलेगा कि वे जित पाए। और इस तरह अन्य राजनितिक पार्टियों को नुकसान होगा।


मेरी राय -Citizenship Amendment Act (CAA ) के ऊपर।

मैं यहां पर अपनी राय देना उचित नहीं समझता हूँ। अब ये फैसला supreme court में हैं। मैं supreme court के फैसले का इस्तेजार कर रहा हूँ।

तो दोस्तों ये थी जानकारी CAA - Citizenship Amendment Act के ऊपर। मुझे उम्मीद है कि आपको ये जानकारी जरूर पसंद आयी होगी। यदि आपका कोई सवाल या कोई सुझाव है तो हमें comment करके जरूर बताये।




और इस post को अपने दोस्तों तक जरूर share करें ताकि और लोगों तक ये जानकारी पहुँच सके और लोग इस सच्चाई को जान सके।
अपना महत्वपूर्ण समय देकर इस post को पढ़ने के लिए आपका बोहोत-बोहोत धन्यवाद।

Share this